Breaking News

Breaking News

e-nam Online Registration 2022: Download Rajasthan Mandi List

 

e-nam Kisan Mandi Registration Rajasthan | enam.gov.in Portal | ई-नाम ऑनलाइन किसान पंजीकरण | e-nam रजिस्ट्रेशन किसान हेल्पलाइन (टोल फ्री) नंबर

हमारे देश के प्रधानमंत्री जी ने देश के किसानो को अपने फसलों को लेकर होने वाली समस्या को सुलझाने के लिए e-nam रजिस्ट्रेशन नाम की योजना को शुरू किया है. e Nam को राष्ट्रीय कृषि बाजार योजना के नाम से भी जाना जाता है। राष्ट्रीय कृषि बाजार (ई-नाम) एक पैन-इंडिया इलेक्ट्रॉनिक व्यापार पोर्टल है जो कृषि से संबंधित उपजो के लिए एक एकीकृत राष्ट्रीय बाजार का निर्माण करने के लिए मौजूदा ए।पी।एम।सी मंडी का एक प्रसार है। इस e-nam Portal के माध्यम से देश के किसान अपनी फसलों को कही से भी ऑनलाइन अपनी फसल भेज सकते है और ऑनलाइन बेचीं गयी फसलों का भुगतान अपने बैंक अकाउंट में प्राप्त कर सकते है।

e-nam ऑनलाइन किसान पंजीकरण

लघु कृषक कृषि व्यापार संघ (एसएफएसी) भारत सरकार के कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय के अंतर्गत ई-नाम को लागू करने के लिए प्रमुख एजेंसी है। राष्ट्रीय कृषि बाजार /national agriculture market(ई-नाम) एक अखिल भारतीय इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग पोर्टल है. जो कृषि उत्पादों के लिए एकीकृत राष्ट्रीय बाजार बनाने हेतु मौजूदा एपीएमसी मंडियों को ऑनलाइन नेटवर्क से जोडता है । जैसे देश के लोगो को काफी फायदा होगा।

देश के जो इच्छुक लाभार्थी अपनी फसल को ऑनलाइन बेचना चाहते है तो वह घर बैठे इंटरनेट के माध्यम से e-nam पोर्टल पर जाकर ऑनलाइन बेच सकते है। अब अलग-अलग किसान ई-एनएएम पोर्टल पर enam.gov.in पर किसान पंजीकरण के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।

e-nam तीन नयी सुविधाओं को किया गया लॉन्च

इस योजना को देश के किसानो की फसलों को लेकर होने वाली परेशानियों को सुलझाने के लिए आरम्भ किया गया है। 20 अप्रैल 2021 को ई नाम पोर्टल को आरम्भ हुए 5 साल पूरे हो चुके है, इस पांचवी वर्षगाठ पर केंद्रीय कृषि मंत्री श्री नरेंद्र सिंह तोमर जी ने देश के किसानो के लिए तीन नयी सुविधाओं को लॉन्च किया है। केंद्रीय कृषि मंत्री श्री नरेंद्र सिंह तोमर जी ने इस तीन सुविधाओं के अंतर्गत उपज से सम्बंधित किसानो की सुविधाओं के लिए ई-नाम पर मंडी जानकारी पृष्ठ, ई-नाम प्लेटफॉर्म के साथ आईएमडी मौसम पूर्वानुमान सूचना का एकीकरण और सहकारी मॉड्यूल को लॉन्च किया है।

  • e-nam पर मंडी जानकारी- देश के किसानो को e-Nam Mandi Portal पर बेचीं जाने वाली उपजो को वास्तविक समय मूल्य प्रदान करने के लिए ये सुविधा शुरू की गयी है।
  • सहकारी मॉड्यूल – सहकारी मॉड्यूल के अंतर्गत सहकारी समिति उपजो को अपने गोदामो से एपीएमसी पर लाये बिना ही किसान अपने खेत के के पास अपनी फसल का व्यापार कर सकते है।
  • आईएमडी मौसम पूर्वानुमान सूचना का एकीकरण– इस सुविधा के अंतर्गत देश के किसानो को ई नाम मंडियों की सूचना और मौसम की जानकारी जैसे आंधी, तूफान की सूचना और न्यूनतम तापमान की सूचना की प्रदान की जाएगी और साथ ही साथ वर्षा वाले क्षेत्रो की भी जानकारी प्रदान की जाएगी। इस सुविधा के माध्यम से किसान भाई अपनी फसली कटाई और खेत से सम्बंधित निर्णेय लेने में सहायता मिलेगी।

e-nam पोर्टल की सफलता

इस योजना के अंतर्गत अब तक देश के लगभग 1.70 करोड़ से अधिक किसान भाई और 1.63 लाख व्‍यापारी ई-नाम पंजीकरण पोर्टल पर अपने आपको पंजीकृत करवा चुके है। इस योजना के होने पर ई नाम पोर्टल पर 1000 मंडियों को जोड़ा गया था, इन मंडियों की सहायता से ई नाम पोर्टल सफल रहा है इसी सफलता को देखते हुए केंद्रीय मंत्री जी ने ई नाम पोर्टल पर 1000 और मंडियों को जोड़ने का निर्णय लिया है।

राज्य के जो किसान अपनी फसलों को ऑनलाइन में माध्यम से बेचना चाहते है तो वह सभी लेने वाले के साथ ई नाम पोर्टल पर ऑनलाइन बेचने के लिए फसल को अपलोड कर सकते है और बड़ी ही आसानी से अपनी फसलों को बेच सकते है।

राष्ट्रीय कृषि बाजार का उद्देश्य

किसानो को फसलों को बेचने को लेकर समस्याएं होती है वह फसल का उत्पादन तो कर लेते हैं, लेकिन उसको कहां पर बेचे यह उनके सामने एक सवाल होता है. हालांकि अभी तक किसानों की फसलें बिचौलियों को द्वारा खरीद कर बेची जाती थी. इस समस्या को निपटने के लिए केंद्र सरकार द्वारा राष्ट्रीय कृषि बाजार (e-nam) पोर्टल को शुरू किया है किसान अपने कृषि उत्पादों को बेचने के लिए enam ऑनलाइन आवेदन पत्र भरकर खुद को विक्रेता के रूप में पंजीकृत कर सकेंगे और अपनी फसलों का उचित दाम प्राप्त कर सकेंगे. फसल को बेचने के बाद पैसे सीधे किसानो के बैंक अकॉउंट में ट्रांसफर किये जायेगे.

e-nam रजिस्ट्रेशन के लाभ

  • ई-नाम पोर्टल सभी ए।पी।एम।सी से संबंधित सूचना और सेवाओं के लिए एक ही स्थान पर सेवा प्रदान करता है। इसमें अन्य सेवाओं के बीच उपज के आगमन और कीमतों, व्यापार प्रस्तावों को खरीदने और बेचने, व्यापार प्रस्तावों पर प्रतिक्रिया के लिए प्रावधान शामिल हैं.
  • इस ऑनलाइन पोर्टल के माध्यम से देश के किसान ऑनलाइन आवेदन करके अपनी फसल को ऑनलाइन बेच सकते है और अधिक लाभ प्राप्त कर सकते है.
  • इस योजना के ज़रिये देश के किसानो को अधिकतम लाभ प्रदान करना.
  • e nam रजिस्ट्रेशन ऑनलाइन मार्केट प्लेटफॉर्म पारदर्शी नीलामी प्रक्रिया के माध्यम से बेहतर कीमत की खोज प्रदान करते हुए कृषि वस्तुओं में अखिल भारतीय व्यापार की सुविधा प्रदान करेगा.
  • अब वे बिचौलियों और आढ़तियों पर निर्भर नहीं हैं ! सरकार ने अब तक देश की 585 मंडियों को ई-नाम के तहत जोड़ा है.
  • सेब, आलू प्याज, हरा मटर, महूआ का फूल, अरहर साबूत, मूंग साबूत, मसूर साबूत (मसूर), उड़द साबूत, गेहूँ, मक्का, चना साबूत, बाजरा, जौ, ज्वार, धान, अरंडी का बीच, सरसों का बीज, सोया बीन, मूंगफली, कपास, जीरा, लाल मिर्च और हल्दी के प्रायोगिक व्यापार की शुरुआत 14 अप्रैल 2016 को 8 राज्यों के 21 मंडियों में की गई है.
  • हरियाणा की अन्य 02 मंडियों अंबाला और शाहबाद को 1 जून 2016 को ई-नाम पर डाला गया। इस आधार पर, 31 अक्टूबर 2017 तक देश की पहली 470 मंडियों को ई-नाम के साथ एकीकृत किया जाएगा.
  • व्यापार और मूल्य पर वास्तविक समय की जानकारी
  • बेहतर मूल्य खोज के माध्यम से व्यापार में पारदर्शिता
  • राज्य भर के बाजारों तक विस्तारित पहुंच
  • वस्तुओं की गुणवत्ता की जानकारी
  • पारदर्शी ई-बोली प्रक्रिया
  • सीधे ऑनलाइन भुगतान.

E NAM पोर्टल की विशेषताएं

  • ई नाम पोर्टल के माध्यम से दो राज्यों के बीच काम किया जाना संभव हो गया है.
  • इस साल सरकार द्वारा ई नाम में 200 मंडियों को जोड़ा जाएगा और अगले साल 215 और मंडियों को भी शामिल किया जाएगा.
  • इनाम का कार्यान्वयन लघु कृषक कृषि व्यापारी संघ के द्वारा किया जाता है.
  • इस पोर्टल के आरंभ होने की वजह से किसानों को अब बिचौलियों पर निर्भर नहीं रहना पड़ेगा और किसान मंडियों में अपनी फसलें सीधे भेज सकेंगे.
  • इस पोर्टल की शुरूआत 14 अप्रैल 2016 को की गई थी. जिसके माध्यम से किसान अपनी फसल देश की किसी भी मंडी में भेज सकते हैं.

e-nam रजिस्ट्रेशन के दस्तावेज़ (पात्रता )

इस योजना का लाभ देश के केवल किसान भाई ही उठा सकते है, और उसके लिए आवश्यक दस्तावेज चाहिए जिनकी सूचि निचे बताई गयी है-

  • आधार कार्ड
  • पहचान पत्र
  • बैंक पासबुक
  • मोबाइल नंबर
  • पासपोर्ट साइज फोटो

e-nam Portal पर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन  कैसे करे?

देश के जो इच्छुक लाभार्थी किसान इस ऑनलाइन पोर्टल पर अपना पंजीकरण करना चाहते है तो वह नीचे दिए गए तरीके को फॉलो करे.

  • सर्वप्रथम आवेदक को इ नाम को ऑफिसियल वेबसाइट पर जाना होगा. ऑफिसियल वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने होम पेज खुल जायेगा.
  • इस होम पेज पर आपको Registration का ऑप्शन दिखाई देगा. आपको इस ऑप्शन पर क्लिक करना होगा. ऑप्शन पर क्लिक करने के बाद आपके सामने कंप्यूटर स्क्रीन पर अगला पेज खुल जायेगा.
  • इस पेज पर आपका रजिस्ट्रेशन फॉर्म खुल जायेगा. आपको इस रजिस्ट्रेशन में पूछी गयी सभी जानकारी जैसे किसान पंजीकरण प्रकार, स्तर का चयन कर सकते हैं नाम, जन्मतिथि, आधार नंबर, बैंक विवरण आदि भरनी होगी और फिर किसानों को पासबुक की कॉपी कॉपी या रद्द किए गए चेक और आईडी प्रूफ की स्कैन कॉपी भी अपलोड करनी होगी.
  • सभी जानकारी भरने के बाद आपको सबमिट के बटन पर क्लिक करना होगा.
  • किसानों को भविष्य के संदर्भ के लिए जमा किए गए आवेदन पत्र का प्रिंटआउट लेना होगा. पंजीकरण प्रक्रिया पूरी होने पर, किसान मंडियों में अपने कृषि उत्पादों को बेचने के लिए लॉगिन कर सकते हैं.
  • लॉगिन करने के लिए आपको पोर्टल के होम पेज पर जाना होगा, और इस होम पेज पर आपको लॉगिन के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा. ऑप्शन पर क्लिक करने के बाद आपके सामने अगला पेज खुल जायेगा.
  • इस पेज पर आपको यूजरनाम, पासवर्ड और कैप्चा कोड डालकर लॉगिन के बटन पर क्लिक करना होगा.

ई नाम मोबाइल ऐप डाउनलोड करने की प्रक्रिया

  • (e nam App Download) सर्वप्रथम आपको अपने मोबाइल में गूगल प्ले स्टोर खोलना होगा.
  • अब आपको सर्च बॉक्स में ई नाम एंटर करना होगा.
  • इसके पश्चात आपको सर्च के बटन पर क्लिक करना होगा.
  • जैसे ही आप सर्च के बटन पर क्लिक करेंगे आपके सामने एक सूची खुलकर आएगी.
  • आपको सबसे ऊपर वाले रिजल्ट पर क्लिक करना होगा.
  • अब आपको इंस्टॉल के बटन पर क्लिक करना होगा.
  • जैसे ही आप इंस्टॉल के बटन पर क्लिक करेंगे ई नाम ऐप आपके मोबाइल फोन में डाउनलोड हो जाएगा.

Contact us

NCUI Auditorium Building, 5th Floor, 3, Siri Institutional Area,
August Kranti Marg, Hauz Khas,
New Delhi – 110016.
Phone Help Desk No.: 1800 270 0224
Fax+91-11- 26862367
Email id- nam[at]sfac[dot]in, enam[dot]helpdesk[at]gmail[dot]com

Office Time: 09:30 AM. to 06:00 PM.

e-nam रजिस्ट्रेशन किसान हेल्पलाइन (टोल फ्री) नंबर

किसी भी प्रश्न या कठिनाई के मामले में, e nam रजिस्ट्रेशन किसानों की सहायता के लिए हेल्पलाइन टोल फ्री नंबर की सुविधा भी प्रदान कर रहा है: –

  • हेल्पलाइन (टोल फ्री) नंबर: 1800 270 0224
  • ईमेल आईडी: nam@sfac.in, enam.helpdesk@gmail.com
  • आधिकारिक वेबसाइट: https://enam.gov.in/web/



e-nam Online Registration 2022: Download Rajasthan Mandi List Reviewed by Sport Articles on जनवरी 29, 2022 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

Sport Articles All Right Reseved |

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.